पृष्ठ

रविवार, 13 सितंबर 2009

हिन्दी दिवस की पूर्व संध्या पर


हिन्दी मेरी अपनी है भाषा

सब बोले मेरी ये है आशा


भारत मां के माथे की है ये बिन्दी

हर हिन्दुस्तानी की शान है ये हिन्दी


हिन्दी मनभावन और अति पावन है

बिखरे इसमें कई रंग और खुशबू है


हर साहित्यकार को करे हम नमन

हर रचनाकर का करे हम अभिनंदन


हिन्दी दिवस मना रहे हम सब आज

हिन्दी प्रेम की शुरुआत करे हम आज


आओ हम सब कर ले ये सन्धि

लिखे, पढे और बोले अब हिन्दी

- प्रतिबिम्ब बडथ्वाल

6 टिप्‍पणियां:

  1. प्रतिबिम्‍ब हिन्‍दी प्रेमियों के दिलों का खींचा आपने
    अंग्रेजी के दर्पण का ये दर्प सचमुच तोड़ा है आपने
    हिन्‍दी को बिन्‍दी से बिन्‍दी को हिन्‍दी से जोड़ा आपने
    हिन्‍दी करे अंग्रेजी की चिन्‍दी चिन्‍दी नहीं छोड़ा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  2. kash sabhi hindi ke prati aisa hi sochne lage. agrim post ke liye badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको हिन्दी में लिखता देख गर्वित हूँ.

    भाषा की सेवा एवं उसके प्रसार के लिये आपके योगदान हेतु आपका हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'हिंदी दिवस' के हार्दिक शुभकामनायें !!आप का सहयोग व प्रयास सराहनीय है हिंदी भाषा के प्रचार -प्रसार में

    धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब .. आओ हम सब कर ले संधि .. लिखे पढे और बोले हिन्‍दी .. ब्‍लाग जगत में आज हिन्‍दी के प्रति सबो की जागरूकता को देखकर अच्‍छा लग रहा है .. हिन्‍दी दिवस की बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिन्दी हमे बचाना है, हम सबको बढते जाना है। हिन्दी दिवस की हार्दिक बधाई।

    http://hindisahityamanch.blogspot.com

    http://mithileshdubey.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...