पृष्ठ

शुक्रवार, 15 जनवरी 2010

आज .....



कर्त्वय अपना भूला नहीं
भावना मेरी बदली नही
सोच मेरी बदली नही
स्नेह मेरा बदला नही

कर्त्वय के माने अब बदल गये
भावना मेरी कोई समझे नही
सोच को कोई महत्व देता नही
स्नेह मेरा कोई अपनाये नही

पल पल बदलता वक्त
पल पल बदलती सोच
पल पल बदल्ती भावना
पल पल बदलता स्नेह

बदल गये अपने
विमुख हुये सपने
सोच लगी तपने
स्नेह भूले अपने

-प्रतिबिम्ब बडथ्वाल

2 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut khub....waqt badalta hai Insaan shayad nahi.....God Bless!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वक्त बदलता है ये तो मालूम है. दुख तब होता है जब इंसान बदलता है। जय हो!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...