पृष्ठ

रविवार, 16 मई 2010

करता धन्धा हूँ

खुदा का बन्दा हूँ 
आंख होते हुये भी बना अन्धा हूँ
करता धन्धा हूँ

करता धन्धा हूँ
कभी खुशियो का
खुशियां छीन लेने का हक रखता हूँ

करता धन्धा हूँ
कभी प्यार का
प्यार पाकर बेवफाई करना जानता हूँ

करता धन्धा हूँ
कभी दोस्ती का
पीठ पर छुरा घौंपने का आदी हो चुका हूँ

करता धन्धा हूँ
कभी रिश्तो का
रिश्तो से मुंह मोडने में अब माहिर हूँ 

करता धन्धा हूँ
कभी अपनो का
अपनो को बेगाने करने का हुनर जानता हूँ

करता धन्धा हूँ
कभी समाज का
समाज को बांटने का  धर्म जानता हूँ 

करता धन्धा हूँ
कभी देश का
देश को बेच डालने की काबलियत रखता हूँ

हां मै जिन्दा हूँ
खुदा का बन्दा हूँ
लेकिन इंसानियत से करता धन्धा हूँ

कुछ पल सोच लेता हूँ
अच्छा बुरा सोच लेता हूँ
अगले पल फिर अंधा हो जाता हूँ

फिर से करता धन्धा हूँ
हां मै जिन्दा हूँ
खुदा का बन्दा हूँ

-प्रतिबिम्ब बड्थ्वाल 
अबु धाबी, यूएई

9 टिप्‍पणियां:

  1. अपना ईमेल भेजें तो चर्चा करना है...

    sameer.lal AT gmail.com पर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही उम्दा कविता और एकदम सटीक सोच / लेकिन इस धंधे के लिए जनता बिलकुल दोषी है,क्योकि वह भ्रष्ट मंत्रियों से लड़ने को तैयार नहीं है / जनता बिलकुल दोषी है ,जो भ्रष्ट मंत्रियों को जूता नहीं मारती है / आप भी इस दोष में शामिल हैं और हम भी / अब भी वक्त है ,हमलोगों को इसके लिए मिलकर प्रयास करना होगा /

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह-वाह बडथ्वाल साहब, वाह बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपस्थित मित्रो - दिलीप साहब,उडन तशतरी जी, झा जी एवम गोदियाल जी का शुक्रिया!
    @जी झा साहब हां जरुरी है हमे पहले स्वयं को मिलना जरुरी है।एक कविता 1985 मे लिखी थी "मै"(http://merachintan.blogspot.com/2009/06/blog-post.html) कभी कभी हम प्रश्न पुछते रह जाते है जब्कि उत्तर हमारे पास ही है।
    @ समीर जी मेल आपको भेज दी है। आपका स्वागत है सर्!

    उत्तर देंहटाएं
  5. wowwwwwwwwwww अच्छा बुरा सोच लेता हूँ
    अगले पल फिर अंधा हो जाता हूँ

    फिर से करता धन्धा हूँ
    हां मै जिन्दा हूँ
    खुदा का बन्दा हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. Marvellous........it speaks the harrowing truth about the power of evil, personal and political

    उत्तर देंहटाएं
  7. kya baat hai.....khooda kaa banada hoon....... karta mai dhandha hun... prati ji bahut hee sundar kavita hai.......aaj kal ki samay dasha ke hisab se aik dam satya ..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...