पृष्ठ

शुक्रवार, 1 जनवरी 2016

मेरी तरह का आदमी




मेरी तरह का आदमी
हर कोने में गरियाता हुआ
मिल जायेगा, ढूंढना नही पड़ता
कुछ समाज से जुडी बाते
खीजता मन
और पीड़ा का स्वर लिए
लुभावनी बाते और ज्ञान बांटता
बस
छिपा कर बैठा है खुद का मन

जिन्दगी में कई छेद है
अच्छा लगता है
इन छेदों से निहारना
शब्द निकलते है
कलम चलने लगती है
तब
प्रेम कलम की स्याही थी
जो शायद अब सूखने लगी
बात बात पर अब
ये पन्ने शिकायत करते है
मोहब्बत तलाक मांगती सी
हर आहट सन्देश की
धीरे धीरे मौन हो रही है

अच्छा है
जितना जल्दी कोई पहचान ले
जिसने पहचान लिया
उसने
कब का किनारा कर लिया
तुम अब तक क्यों
लंगडाते हुए साथ चल रहे
मेरी खुशफहमी के लिए
गलतफहमी का शिकार हो गए
अपनत्व के जाल में फंस  गए

फिर भी मैं ढीठ हूँ....
अपनों को समझने का
उनसे मोहब्बत का
बुरा ख्याल मन  में लिए
चल रहा हूँ, तुम्हारे साए में ही
अपने 'प्रतिबिम्ब' को छलते हुए
एक और आकाश
एक और धरती
एक और इंसान
एक और चेतना का भास लिए
शून्य से शतक की ओर
तपिश और बौछार की जुगलबंदी
एक नए गीत की ओर ......
चलोगे क्या साथ इसे गुनगुनाने ....

-प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल

1 टिप्पणी:

  1. किरण आर्य जी ने आज से ब्लॉग बुलेटिन पर अपनी पारी की शुरुआत की है ... पढ़ें उन के द्वारा तैयार की गई ...
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "मन की बात के साथ नया आगाज" , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...