पृष्ठ

सोमवार, 13 जुलाई 2009

मुश्किल है अपने से दूर करना


आसान है तुमको गले लगाना

मुश्किल है अपने से दूर करना

आसान है प्यार का इजहार करना

मुश्किल है तुम बिन इंतज़ार करना

आसान है तुम से नज़रे मिलाना

मुश्किल है तुम से नज़रे चुराना

आसान है तुमसे प्यारी बाते करना

मुश्किल है तुम से रुठ कर बैठना

आसान है तुम से दोस्ती करना

मुश्किल है तुम से बेवफाई करना

आसान है तुम पर अहसान जताना

मुश्किल है तुम से अहसास छुपाना

आसान है तुम रुठो तो मनाना

मुश्किल है तुम से फासले बनाना

आसान है तुमको नज़रो में बसाना

मुश्किल है अपने से दूर करना


- प्रतिबिम्ब बडथ्वाल

(यह भी एक पुरानी रचना है)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...