पृष्ठ

शनिवार, 31 जुलाई 2010

दोस्ती का दिन ...


सुना है लोग दोस्ती का दिन मना रहे है
ये कौन सा रिश्ता है जो आप भुना रहे है

ये रिशता नही मोहताज किसी दिन का
हर पल जिया जाये ये रिश्ता दोस्ती का

दोस्ती में है ना कोई सीमा
ये तो है जीवन भर का बीमा

ये रिश्ता सब रिश्तो से अनूठा है
इस रिश्ते मे भाव ना कोई छूटा है

दोस्ती आईना है सही - गलत का
दोस्ती माईने  है प्यार मोहब्बत का

ना तो दोस्ती कंही हमे है सिखाई जाती
लोगो को इसकी सूरत नही है दिखाई जाती

बदल जाते है कुछ अपने अहसास
जब दोस्त अपना बने  कोई खास

ये ना देखे उम्र ना शक्ल ना कुछ और्
दोस्त बने मां-पिता, भाई-बहन या कोई और

मिल जाये या बन जाये जब कोई दोस्त अपना
लगे येसे जैसे पूरा हुआ हो कोई अपना सपना

आप लोग अपने सब दोस्तो के साथ ये दिन मनाये
हम तो अपने दोस्तो से अब अपनी दोस्ती निभाये।

- प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल , अबु धाबी, यूएई

6 टिप्‍पणियां:

  1. सटीक बात ....दोस्ती करना आसान है निबाहना मुश्किल

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर पल जिया जाए दोस्ती का....... वह दीवार पर लटके किसी कलेंडर की तारीख से नहीं हैं.. सही परिभाषा के लिए आपको बधाई
    - प्रमोद कौंसवाल

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारी तरफ से मित्र दिवस की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप लोग अपने सब दोस्तो के साथ ये दिन मनाये
    हम तो अपने दोस्तो से अब अपनी दोस्ती निभाये।
    बहुंत खूब कहा

    उत्तर देंहटाएं
  5. Aapki baton se main sehmat hoon!
    Dosti kisi vishesh din ki mohtaj nahi,
    Dosti to aisha anootha bandhan hai,
    Jo dil ke bhawnao se hi mehsoos kiya jaata hai,
    Dil mile to dosti bhi sath nibhayegi,
    Warna saal mein ek din ke liye simat jayegi.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...