पृष्ठ

बुधवार, 29 सितंबर 2010

जीवन में पानी


जानते है की जल से  
एक तिहाई दुनिया आच्छादित है
जानते है की जल
एक रासायनिक पदार्थ है
पानी की तीन अवस्थाये
कभी द्रव्य,कभी ठोस या कभी गैस है
जल आसमां से भी बरसता है
नदी में सागर में और महासागर में भी है
पानी खारा भी है मीठा भी है
बस जल का चक्र घूमता है
कंही पानी को तरस रहा है
कंही पानी खूब बरस रहा है
शरीर में भी पानी है
जीवन में भी पानी है
कंही दूषित है
कंही गंगाजल है
कोई पी रहा है लवणित जल
कोई तरस रहा है पीने को हर पल
कंही बह रहा शांत हो कर
कंही बह रहा अंशात हो कर
कंही बर्फ बनकर लुभा रहा है
कंही बर्फ बनकर मौत दे रहा है
पानी तेरी भी अजब कहानी है
कंही प्यास तो कंही तबाही है
कंही नीर बन कर बह रहा है
कंही तीर बनकर चुभ रहा है
जल से मिलता जब जल
जीवन को मिलता इससे बल
पानी सब कुछ अपने मे समाये
जिस में चाहे उसमें मिल जाये
कोई तुझ को करता अर्पित
कोई तुझ मे हो जाये समर्पित
जल पानी नीर जैसे तेरे कितने नाम
माने दुनिया और माने चारो धाम
पानी बिन रुक जाती सांस
इसमे बसती है सबकी आस
प्यासे को पानी एक बूंद पिला देना
जीवन अपना हे मानव तू संवार लेना
पानी अब मैं क्या करुं तेरा गुणगान
अब तू दे जीवन या फिर ले ले जान
      -    प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल 

3 टिप्‍पणियां:

  1. इसीलिये रहीम ने कहा है रहिमन पानी राखिये .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति ...जल ही जीवन है

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप की रचना 01 अक्टूबर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com


    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...