पृष्ठ

बुधवार, 8 जून 2011

आम आदमी अब तैयार है




एक सच तेरा
एक सच मेरा
एक सच हमारा
सुने सत्य हमारा

गिर चुका ईमान
बिक रहा इंसान
बन गया हैवान
यह हमारी पहचान

देश प्रेम शब्दों में है
अपने से केवल प्यार है
दूसरे के लिए  विचार है
जुड़ गया मुझमें अहंकार है

धर्म की आंखे लेकर
राजनीति की आड़ में
भाषा की मर्यादा भूले
हकीकत से हम जुदा हुये

सत्याग्रह भारत का चेहरा था
आज इस पर भी लगा पहरा है
अहिंसा का पाठ विश्व को पढ़ाया
हिंसा को अब अपनी ढ़ाल बनाया

नेता बना आज अभिनेता है
जनता को मूर्ख बनाता है
जिसके हाथो गद्दी पाता है
उसी को कुचलता जाता है

जनता अभी मौन है
उसकी सुनता कौन है
अब समय की ललकार है
आम आदमी अब तैयार है 


- प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल

3 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sahi baat kahi aapne Prati ji.... aaj jantaa kee kaun sunta hai....shakti kaa durupyoga ho raha hai...bhrsht taaktvar ho raha hai... aapki rachna saamyik..bahut achhi

    उत्तर देंहटाएं
  2. चल मर्दाने सीना ताने
    हाथ हिलाते पाँव बढ़ाते
    मन मुस्काते गाते गीत
    एक हमारा देश हमारा वेश
    हमारी मंज़िल
    हम किस से भयभीत?
    चल मर्दाने सीना ताने
    हाथ हिलाते पाँव बढ़ाते
    मन मुस्काते गाते गीत
    ~ हरिवंशराय बच्चन

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...