पृष्ठ

मंगलवार, 30 मई 2017

रिसते रिश्ते



कर मेरे जज्बातों का कत्ल
लोग अब अंगुली मुझ पर उठाने लगे हैं
रूककर, थाम हाथ अपनों का
लोग अब कहीं अपनी जगह बनाने लगे हैं

अपने हालातों का कर जिक्र
वक्त की आड़ में रिश्ते रिसने लगे हैं
घोट गला मेरी चाहत का
वे ख़ुशी अपनी समेट मुस्कराने लगे हैं

कर दूर गलतफहमियों को
पा लिया सबने, जो उनका था खोया
पर लगा इल्जाम सोच पर मेरी
मिला जितना, पल भर में जैसे मैंने खो दिया

दूरी बना कर साथ चलना
एक अजब रिश्ता उनकी खुशी ने बना लिया
नहीं मंजूरी हमें कुछ कहने की
मौन को मेरे हर प्रश्न का उत्तर बना लिया

माना जिसे और अपना कहता रहा
मेरे बुरे वक्त में वो लोग हमसे दूर जाते रहे
थी उम्मीद जहाँ मिलन की ‘प्रतिबिम्ब’
मगर वक्त संग वहाँ, फासले अब वो बनाते रहे

- प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल ३०/५/२०१७

गुरुवार, 30 मार्च 2017

~वो अलविदा कहने आये हैं ...~



किस्मत का किया था शुक्रिया 
जब उनसे हमारी पहली मुलाक़ात हुई थी 
ख़ुशी बनकर साथ चले लेकिन 
भूल गया था किस्मत बदलते देर नहीं लगती

इन रिश्तों की अजब कहानी
याद करें न कोई हमें, फिर भी इंतज़ार रहता है
नम आँखे झूठ बोलती नहीं
दर्द दिया जिसने, वही दुआओं में मेरी रहता है

सिखाया था हमने प्यार जिन्हें
वे जमाने से, गजब की बेरुखी सीख कर आये है
हद तो तब हो गई यारों
जब वो सीख कर, हम पर ही आज़माने लगे है

दिल को कई बार तसल्ली देता हूँ
लेकिन उसे हौसला देते हुए, दिल रो पड़ता है
खोलूँ कैसे 'प्रतिबिम्ब', ये बंद दरवाज़ा
जबकि जानता हूँ वो अलविदा कहने आये हैं

- प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल ३०/३/२०१७

सोमवार, 27 मार्च 2017

~हालात की नज़र~




हमें जिन्दा देख कर हैरान है अपना कहने वाले
दर्द में हमें देख कर भी बहुत है नज़र फेरने वाले

वक्त के दर्द का घाव अंदर ही अंदर रिसता रहा
उभरती हुई हसरतो को बेपनाह दर्द मिलता रहा

मैंने लगा लिया गले जो आज तक वक्त ने दिया
वक्त की मजबूरियां होगी जो उसने हँसने न दिया

अस्तित्व मेरा स्वयं खुश रहने की कला सीख रहा है
वरना यहाँ बिगड़े हालात पर खुश होने वाले बहुत है

जानता हूँ एक दिन किस्मत अपनी खिल खिलायेगी
मगर 'प्रतिबिंब" तब तक कई रिश्तों की विदाई हो जायेगी

- प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल २७/३/२०१७ 

शनिवार, 18 फ़रवरी 2017

यहाँ वहाँ...




टुकड़ो टुकड़ो में प्यार 
अब तक ऐसी है अपनी यात्रा 
एहसासों की 
बहुत कम है मिश्रित मात्रा 
फिर भी तुम्हारी कही 
कई बातो में से 
कुछ एक को रेखांकित किया है
जिसे खुद ही बुदबुदाता हूँ 
भावनाओं का उबाल 
न जाने कितनी बार 
उबल कर बिखर गया 
यहाँ वहाँ

कई बार 
तुम्हारी लिखी रचनाओं को 
पढ़ा है 
इनमे बहुत बार खुद को ढूँढा है 
लेकिन नाकामी हासिल हुई 
थोड़ा बहुत 
किसी कोने में खुद को 
गिरा, असहाय महसूस किया है 
हाँ जो चाहता था खुद के लिए 
उसे सार्वजनिक रूप में 
लिखा हुआ नज़र आ ही गया 
यहाँ वहाँ

वक्त की बेहरमी और 
खुद की व्यस्तता में भी 
सुकून ढूँढने वाला 
तन - मन आज 
नज़र फेरने में 
पहले स्थान पर है 
लम्बे सफर में 
उतार चढ़ाव का वेग 
अपनों की 
पहचान कराने में सक्षम है 
फिर भी 
 एक भरोसे से भी
बिखर जाता है अस्तित्व 
यहाँ वहाँ

गागर में सागर लिए 
एहसास का गुलदस्ता
ख़ूबसूरत नज़र आता है 
लेकिन
भविष्य के दर्पण में
'प्रतिबिम्ब' 
धुंधला नज़र आता है 
 साथ होकर भी
गुलाब और कांटे
साफ़ साफ़ नज़र आते है 
गुल्दस्ते के कुछ फूल 
शायद बिखर गए है 
यहाँ वहाँ
-
प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल १८/०२/२०१७
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...