पृष्ठ

शनिवार, 3 अक्तूबर 2009

ये क्या सिखाया आपने



सो रहा था मां के गर्भ में
सब बातो से अनजान
शायद जानता भी था,
नही कर पाया तब बयान.


खुश था अपनी दुनिया में,
परियो के उस सुंदर संसार में,
सब के चेहरे पर खुशी लाता था,
करता था तब सब से प्यार मैं

ना धर्म की पहचान थी तब मुझे,
ना शत्रुओ का ज्ञान था तब मुझे
आज धर्म ही मेरी पहचान बनी,
ये दुशमनी क्यो सिखाई आपने मुझे?

आंख खुलते ही ये क्या सिखाया आपने,
अपनो से ही बैर सिखाया क्यो आपने ?
हार जीत की कसौटी पर खडा किया,
क्यो अपनो को हराना सिखा दिया आपने?

तब रोता था बस चाह में अपनो की,
ढूढता था अपनो को ललचाई आंखो से
आज हंसना सिखाया आपने अपनो पर,
आज क्यो मै रोडा बनता अपनो के सपनो पर?

कभी सोचता हूं अनजान ही अच्छा था,
दुनिया से जब तक ना ये सब सीखा था,.
आओ शांति - अंहिसा की राह सब चले
द्वेश छोड अब प्रेम की राह हम सब चले


-प्रतिबिम्ब बडथ्वाल

4 टिप्‍पणियां:

  1. आनंदों हम आनंदों हम , बहुत सुंदर ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज हंसना सिखाया तुमने अपनों पर..अपनों से ही बैर सिखाया क्यों आपने...
    अगर आप इस कविता से संतुष्ट तो ठीक है- वरना मैं लेख लिख डालूं श्रीयुत बड़थ्वाल जी..?

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रमोद जी संतुष्टि तो नहीं मिलती....आप लेख लिख दे और यदि इसी ब्लाग पर लिखना चाहते है तो आमंत्रित है आप.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी/प्रतिक्रिया एवम प्रोत्साहन का शुक्रिया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...